Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

प्रधानमंत्री मोदी को 208 अकादमिक विद्वानों को लिखा पत्र, लेफ्ट पर लगाया पढाई का माहौल बिगाड़ने का आरोप

0 12

- sponsored -

- Sponsored -

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश के 200 से अधिक अकादमिक विद्वानों को पत्र लिखा है और यह आरोप लगाया है कि वामपंथी विचारधारा से जुड़े लोग पढाई का माहौल खराब कर रहे हैं. मोदी कोे जिन लोगों को पत्र लिखा है उनमें कई प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के वीसी व अन्य संस्थानों के प्रमुख हैं. पत्र में कहा गया है कि वामपंथी एक्टिविस्ट देश का अकादमिक माहौल खराब कर रहे हैं.

पत्र में लिखा गया है कि छात्र राजनीति के नाम पर अतिवादी वामपंथी एजेंडे को आगे बढाया जा रहा है. पत्र में कहा गया है कि जेएनयू से जामिया और एएमयू से जाधवपुर विश्वविद्यालय तक के घटनाक्रम को देख कर लगता है कि किस तरह से अकादमिक माहौल को खराब किया जा रहा है. उन्होंने लिखा है कि यह वामपंथियों की एक छोटे से वर्ग की शरारत है.

- Sponsored -

- Sponsored -

प्रधानमंत्री को पत्र लिखने वालों में हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय के कुलपति आरपी तिवारी, साउथ बिहार सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वीसी एचसीएस राठौर और सरदार पटेल विश्वविद्यालय के वीसी शिरीष कुलकर्णी शामिल हैं. शिक्षण संस्थानों में वाम विंग की अराजकता के खिलाफ बयान शीर्षक से लिखे गये पत्र में कुल 208 अकादमिक विद्वानों के हस्ताक्षर हैं.

यह पत्र नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के दौरान हुए हिंसक प्रदर्शन के संदर्भ में लिखा गया है. मालूम हो कि हाल ही में जेएनयू में भी हिंसा हुई है. पत्र में कहा गया है कि वामपंथी राजनीति की ओर से लगायी गयी सेंसरशिप के कारण स्वतंत्र रूप से कुछ भी बोलना व सार्वजनिक कार्यक्रम करना मुश्किल हो गया है.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -