Samridh Jharkhand
Fastly Emerging News Portal from Jharkhand

Makar Sankranti जान लीजिए कि संक्रांति अब 15 जनवरी को क्यों हो रही है, 200 सालों का इतिहास

0 5

- sponsored -

- Sponsored -

वर्ष 2008 से 2080 तक मकर संक्राति 15 जनवरी को होगी 

विगत 72 वर्षों से 1935 से प्रति वर्ष मकर संक्रांति 14 जनवरी को ही पड़ती रही है

2081 से आगे 72 वर्षों तक अर्थात 2153 तक यह 16 जनवरी को होगी

 

अशोक वर्मा

- Sponsored -

- Sponsored -

सूर्य के धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश संक्रमण का दिन मकर संक्रांति के रूप में जाना जाता है. इस दिवस से, मिथुन राशि तक में सूर्य के बने रहने पर सूर्य उत्तरायण का तथा कर्क से धनु राशि तक में सूर्य के बने रहने पर इसे दक्षिणायन का माना जाता है.

सूर्य का धनु से मकर राशि में संक्रमण प्रति वर्ष लगभग 20 मिनट विलंब से होता है. स्थूल गणना के आधार पर तीन वर्षों में यह अंतर एक घंटे का तथा 72 वर्षो में पूरे 24 घंटे का हो जाता है.

यही कारण है कि अंग्रेजी तारीखों के मान से मकर संक्रांति का पर्व 72 वषों के अंतराल के बाद एक तारीख आगे बढ़ता रहता है.

विशेष रूप से यह धारणा पूर्णतः भ्रामक है कि मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी को आता है.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -